कलंक कथा : बाबू सिंह कुशवाहा के विरुद्ध कुर्की का आदेश

कलंक कथा : बाबू सिंह कुशवाहा के विरुद्ध कुर्की का आदेश

CBI will attaches babu singh Kushwaha properties in NRHM scam

गाजियाबाद । एनआरएचएम घोटाले में सीबीआइ की विशेष कोर्ट के जज पवन कुमार तिवारी ने तीन मामलों में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा, पूर्व महानिदेशक परिवार कल्याण एवं स्वास्थ्य डॉ. चंद्रभान प्रसाद एवं संयुक्त निदेशक लेप्रोसी डॉ. पवन कुमार श्रीवास्तव के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

अदालत 20 मार्च को सुनवाई करेगी। सीबीआइ के वरिष्ठ लोक अभियोजक बीके सिंह एवं अनुराग मोदी ने अदालत को बताया कि एक मामले में बाबू सिंह के खिलाफ नौ जनवरी को गैर जमानती वारंट जारी किया गया था, इसके बावजूद वह पेश नहीं हुए, इससे कोर्ट की कार्रवाई प्रभावित हो रही है। अदालत ने सीबीआइ को कुर्की की कार्रवाई का आदेश दिया। कोर्ट पहले भी कई मामलों में बाबू सिंह के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई का आदेश दे चुकी है।

दूसरे मामले में डा चंद्रभान प्रसाद के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई का आदेश दिया गया। उन पर आरोप है कि 31 मार्च 2010 को पुराने टेंडर पर ही महानिदेशालय के सांख्यिकी सहायक तुलसीराम तिवारी के साथ मिलकर आरके ट्रेडर्स के संचालक राकेश सिंह द्वारा स्वास्थ्य संबंधित डिस्प्ले बोर्ड, पोस्टर एवं बैनर बनाकर प्रदेश की सरकारी अस्पतालों में आपूर्ति कराई गई। इससे सरकारी विभाग को लगभग 92.83 लाख रुपये नुकसान हुआ।

तीसरे मामले में लेप्रोसी के संयुक्त निदेशक डा. पवन कुमार श्रीवास्तव ने लगभग 57 लाख रुपये के फ्लैक्सी एवं बोर्ड की आपूर्ति नियमों के विरुद्ध की। यह भी लंबे समय से कोर्ट में पेश नहीं हो रहे हैं। अदालत ने नौ जनवरी को उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था इसके बावजूद वह पेश नहीं हुए थे।