Friday, October 19, 2018
भारत

0 209

ऐसा क्या हुआ की सचिन कुछ बोल न सके

नई दिल्ली.

गुजरात चुनावों के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह पर की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी को लेकर राज्यसभा में बृहस्पतिवार को भी कांग्रेस का विरोध और नारेबाजी जारी रही। यही नहीं, सदन में पहली बार भाषण देने के लिए खड़े हुए सचिन तेंदुलकर को भी बोलने नहीं दिया गया।

दरअसल, सदन में सुबह प्रधानमंत्री की टिप्पणी और 2जी घोटाला मामले पर हुए हंगामे के बाद सभापति एम. वेंकैया नायडू ने कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी थी। जब कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो वेंकैया अल्पकालिक चर्चा की शुरुआत तेंदुलकर से करवाना चाहते थे। तेंदुलकर को खेल के अधिकार और देश में खेलों के भविष्य पर चर्चा की शुरुआत करनी थी। इस बीच सपा के नरेश अग्रवाल ने 2जी मामले में व्यवस्था का सवाल उठा दिया।

इसके बाद वेंकैया ने यह कहते हुए चर्चा की शुरुआत करने की कोशिश की कि यह तेंदुलकर का पहला भाषण है और उन्हें सुना जाना चाहिए, लेकिन तुरंत ही कांग्रेस के कई सदस्य खड़े हो गए और प्रधानमंत्री की टिप्पणी का मुद्दा उठाते हुए ‘देश को गुमराह करना बंद करो’ के नारे लगाने लगे। वे प्रधानमंत्री मोदी द्वारा माफी मांगे जाने की मांग कर रहे थे।

वेंकैया ने सदस्यों से कहा कि ‘भारत रत्न’ सचिन तेंदुलकर ने देश के लिए काफी कुछ किया है, वह आदर्श शख्सियत और युवाओं के प्रेरणास्नोत हैं, लेकिन इसके बावजूद विपक्ष ने शोरगुल और विरोध जारी रखा। नाराज वेंकैया ने तेंदुलकर से भाषण शुरू करने के लिए कहा। सपा की जया बच्चन ने भी तेंदुलकर के बोलने का समर्थन किया, लेकिन वह सिर्फ खड़े होकर देखते रह गए, क्योंकि विपक्षी सदस्य लगातार नारेबाजी करते रहे। इस पर वेंकैया ने कहा, वह नहीं चाहते कि लोग टीवी पर ऐसे दृश्य देखें और उन्होंने सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी।

राज्यसभा में बृहस्पतिवार को बोलने के लिए खड़े महान क्रिकेटर और सांसद सचिन तेंदुलकर ’ प्रेट्रमुख्य विपक्षी दल के रूप में दिशा खो चुकी है कांग्रेस 1खेलों के गैर-राजनीतिक मुद्दे पर भी सचिन तेंदुलकर को नहीं बोलने देने के लिए सरकार ने कांग्रेस की आलोचना की है। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि मुख्य विपक्षी दल के रूप में कांग्रेस अपना आधार और दिशा दोनों खो चुकी है। गुरुवार को कांग्रेस ने बिल्कुल अलोकतांत्रिक तरीके से व्यवहार किया। सभापति के बार-बार अनुरोध करने पर भी उन्हें (तेंदुलकर) बेहद महत्वपूर्ण और जनहित के मुद्दे पर बोलने नहीं दिया गया।

0 283

VK Sasikala Likely To Surrender In Bengaluru Today

10 करोड़ का जुर्माना भी लगाया तत्काल सरेंडर करने का आदेश

दस साल चुनाव नहीं लड़ पाएंगी अन्नाद्रमुक महासचिव शशिकला

नई दिल्ली।

अन्नाद्रमुक प्रमुख वीके शशिकला का राजनीतिक भविष्य शुरू होने से पहले ही खत्म हो गया। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनने का ख्वाब देख रही शशिकला को अब जेल जाना होगा। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में शशिकला व उनके दो रिश्तेदारों वीएन सुधाकरण और जे. इलावरसी को बरी करने का कर्नाटक हाई कोर्ट का फैसला रद कर दिया। तीनों को भ्रष्टाचार के जुर्म में चार-चार साल की कैद व दस-दस करोड़ रुपये जुर्माने की सजा पर मुहर लगा दी।

कोर्ट ने तीनों को तत्काल सरेंडर करने को कहा है। भ्रष्टाचार के अपराध में दोषी होने के कारण शशिकला 10 साल चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। कानूनन सजा पूरी होने के छह साल बाद तक चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। जयललिता की मृत्यु हो जाने के कारण कोर्ट ने उनके खिलाफ मामला खत्म कर दिया है। यह ऐतिहासिक फैसला न्यायमूर्ति पीसी घोष व न्यायमूर्ति अमिताव रॉय की पीठ ने सुनाया। कोर्ट ने कर्नाटक सरकार और डीएमके नेता के. अनबजगन की अपीलें स्वीकार करते हुए कर्नाटक हाई कोर्ट का 11 मई 2015 का आदेश रद कर दिया।

हाई कोर्ट ने चारों को बरी कर दिया था। जबकि बेंगलुरु की ट्रायल कोर्ट ने भ्रष्टाचार में सभी को दोषी ठहराते हुए सजा सुनाई थी। शशिकला शुरुआत में छह महीने जेल में रही हैं। ऐसे में उन्हें तीन साल छह महीने तक जेल में रहना में होगा।

संपत्ति हड़पने के लिए थे साथ

कोर्ट ने यहां तक कहा कि सभी अभियुक्त जयललिता की संपत्ति हथियाने की साजिश के तहत ही खून का रिश्ता न होते हुए भी उनके साथ घर पर रहते थे। एक खाते से दूसरे खाते में पैसे के लेनदेन से साबित होता है कि ये जयललिता की गैरकानूनी कमाई को कंपनियों के नाम संपत्ति खरीदने में खपाने की साजिश थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ट्रायल कोर्ट के दिये कारणों से वह पूरी तरह सहमत है।

120 साल पुराना था मामला

इन सभी पर आरोप थे कि जयललिता के पहले मुख्यमंत्रित्व काल (1991-1996) में 66.65 करोड़ की संपत्ति जुटाई। इनमें 53.60 करोड़ की संपत्ति आय के स्नोतों से अधिक पाई गई। 1996 में तत्कालीन जनता पार्टी के अध्यक्ष सुब्रण्यम स्वामी ने यह मुकदमा दर्ज कराया था।

0 176

Four militants killed after gunbattle In Kashmir

कुलगाम। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आज सुबह से आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी है। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने चार हिजबुल के चार आतंकवादियों को मार गिराया है। ये एक घर में छुपे हुए थे। तीन आतंकी भागने में कामयाब रहे। पुलिस ने चार हथियार भी बरामद किए हैं। इस दौरान तीन जवान शहीद हो गए।

रातभर चला सर्च अभियान
एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस को सूचना मिली थी कि सात आतंकियों का एक ग्रुप साउथ कश्मीर के गांव में छुपा बैठा है। इसके बाद पुलिस ने इसकी जानकारी सेना को दी। पुलिस और सुरक्षाबलों ने संयुक्त रूप से इस सूचना के आधार पर कुलगाम के गांव में शनिवार रात से सर्च अभियान शुरू किया।
घर में ब्लास्ट कर अातंकियों को मारा गया
कुलगाम के कंट्रोल रूम ने बताया कि घर में छुपे हुए आतंकियों ने इसी बीच फायरिंग शुरू कर दी। स्थानीय लोगों का कहना है कि घर में ब्लास्ट करके आतंकवादियों को मार गिराया। तीन आतंकियों के शव को बरामद कर गया है और एक आतंकी के अभी भी जख्मी हालत में छुपे होने की आशंका हैं। वहीं तीन आतंकी इस धमाके बाद घायल तीन आतंकी इलाके से बाहर निकल गए हैं। अभी भी रूक-रूककर गोलाबारी हो रही है। इससे पहले चार फरवरी को सोपोर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया था।

0 246

नई दिल्ली।

सुप्रीम कोर्ट की सात वरिष्ठतम न्यायाधीशों की पीठ ने अपने अभूतपूर्व आदेश में कलकत्ता हाई कोर्ट के सिटिंग जज जस्टिस सीएस कर्नन को अवमानना नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों न उन पर अवमानना की कार्यवाही की जाए। इतना ही नहीं कोर्ट ने जस्टिस कर्नन को तत्काल प्रभाव से न्यायिक और प्रशासनिक काम छोड़ने का निर्देश देते हुए अगली सुनवाई पर निजी तौर पर पेश होने का भी आदेश दिया है।

इतिहास में यह पहला मौका है जब सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के किसी सिटिंग जज को अवमानना नोटिस जारी किया है।1सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस कर्नन द्वारा प्रधानमंत्री और अन्य लोगों को लिखे पत्रों पर स्वत: संज्ञान लेकर अवमानना पर सुनवाई शुरू की है। पत्रों में जस्टिस कर्नन ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के वर्तमान और सेवानिवृत्त 20 न्यायाधीशों पर कथित तौर पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।

इस मामले पर मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली सात वरिष्ठतम न्यायाधीशों की पीठ ने सुनवाई की और आदेश जारी किया। जस्टिस खेहर के अलावा पीठ में न्यायमूर्ति दीपक मिश्र, न्यायमूर्ति जे. चेल्मेश्वर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर, न्यायमूर्ति पीसी घोष और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ शामिल हैं।

करीब आधे घंटे सुनवाई चली में अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने जस्टिस कर्नन के खिलाफ अवमानना नोटिस जारी करने और उनसे न्यायिक और प्रशासनिक कामकाज वापस लिए जाने की अपील की। उन्हें सुनने के बाद कोर्ट ने जस्टिस कर्नन को कारण बताओ नोटिस जारी किया। कोर्ट ने जस्टिस कर्नन से कहा है कि वे तत्काल प्रभाव से न्यायिक और प्रशासनिक कार्य छोड़ दें और सभी फाइलें कलकत्ता हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को तुरंत वापस करें। कर्नन को नोटिस का 13 फरवरी तक जवाब देना है। कोर्ट ने रजिस्ट्री को आदेश दिया कि वह इस आदेश की कॉपी और उन पत्रों को जिन पर कोर्ट ने संज्ञान लिया है आज ही जस्टिस कर्नन को भेजना सुनिश्चित करें।

0 125

नई दिल्ली ।

कर्ज और सस्ते होने का इंतजार कर रहे आम लोगों व उद्यमियों को भले ही रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने निराश किया हो, लेकिन उसने बैंकों से नकद निकासी पर लगी सीमा को हटाने का एलान कर दिया है। इस तरह केंद्रीय बैंक ने स्पष्ट कर दिया है कि अब स्थिति लगभग सामान्य हो गई है। 13 मार्च के बाद लोग अपने खाते से जितनी चाहे उतनी रकम निकाल सकेंगे।

केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया है। इसके अलावा विकास दर के अनुमान को भी घटाकर 6.9 फीसद कर दिया है।1रिजर्व बैंक की ओर से नोटबंदी के बाद बैंक खाते से नकदी निकासी पर लगाई गई सीमा को हटाने की घोषणा की है। बचत खाते से 20 फरवरी से हर सप्ताह 50,000 रुपये निकाले जा सकेंगे। जबकि 13 मार्च से बैंक से नकदी निकासी की सीमा पूरी तरह खत्म हो जाएगी।

इसके बाद ग्राहक अपने सेविंग अकाउंट से कितनी भी राशि निकाल पाएंगे। एमपीसी की बैठक के बाद बुधवार को दोमाही मौद्रिक नीति की समीक्षा जारी की गई। यह लगातार दूसरी मौद्रिक नीति समीक्षा है, जब आरबीआइ ने प्रमुख नीतिगत ब्याज दर यानी रेपो रेट में कमी करने से परहेज किया है। केंद्रीय बैंक ने इस दर को 6.25 फीसद पर बरकरार रखा है। रेपो रेट वह दर है जिस पर बैंक आरबीआइ से कम अवधि के कर्ज लेते हैं।

इसमें कमी होने पर बैंक होम व ऑटो लोन समेत तमाम तरह की कर्ज दरें घटाते हैं। रिजर्व बैंक का रुख फिलहाल महंगाई को काबू रखकर विकास दर को बढ़ाने का रहा है। इसके बावजूद ब्याज दरों में और कटौती से बचा गया है। केंद्रीय बैंक को इस बात की भी आशंका है कि नकदी का प्रवाह बढ़ने से आने वाले दिनों में महंगाई में उछाल की आशंका है।

0 259

नई दिल्ली। लाल किले में स्थित एक कुएं में विस्फोटक और कारतूस बरामद होने से सुरक्षा एजेंसियां हरकत में आ गईं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शनिवार को स्मारक की साफ-सफाई के दौरान ये चीजें बरामद हुईं। इसके बाद एनएसजी को सूचित किया गया। उन्होंने कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा लाल किले में स्थित कुओं को साफ किए जाने के दौरान प्रकाशन इमारत के पीछे स्थित एक कुएं से कुछ कारतूस और विस्फोटक मिले।

अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने इलाके की घेराबंदी करने के बाद तुरंत एनएसजी और सेना को सूचित किया। एनएसजी के बम निरोधक दस्ते मौके पर पहुंच गए। एनएसजी के अधिकारियों के अनुसार, वे लाल किले से मिली कुछ चीजों की जांच कर रहे हैं। एक अधिकारी ने कहा कि कुएं से शाम लगभग पांच बजे पांच मोर्टार और 44 कारतूस बरामद किए गए। इनके अलावा 87 कारतूसों के खोल भी बरामद हुए। ऐसा लगता है कि यह सामग्री सरकारी है, लेकिन आगे जांच जारी है।

वहीं दूसरी तरफ संसद भवन परिसर के भीतर महात्मा गांधी की प्रतिमा के समीप सोमवार को एक लावारिस बैग मिलने से सुरक्षाबलों के बीच खलबली मच गई। संसद के सूत्रों ने बताया कि बैग मिलते ही सुरक्षाबलों को सतर्क कर दिया गया और सुरक्षाकर्मी तत्काल घटनास्थल पर पहुंच गए। हालांकि उस बैग में से कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली और सुरक्षाबल बैग को वहां से ले गए। सूत्रों ने बताया कि यह पता लगाया जा रहा है कि बैग किसका है। उल्लेखनीय है कि संसद का बजट सत्र चल रहा है।

कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस समेत विपक्षी सांसदों ने संसद भवन के मुख्य प्रवेश द्वार के ठीक पीछे स्थित गांधी प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन किया जिसके तुरंत बाद ही यह लावारिस बैग मिला। विपक्षी सांसद पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोकसभा सांसद ई. अहमद के निधन की खबर देने के मामले में सरकार द्वारा अपनाए गए तरीके के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

0 88

BJP releases Fourth List of Candidates for Uttar Pradesh Assembly Election 2017 News in Hindi

नई दिल्ली। भाजपा ने यूपी चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की चौथी लिस्ट जारी की है। इसमें कुल नौ सीटों के लिए उम्मीदवारों के नामों का उल्लेख किया गया है। सबसे महत्त्वपूर्ण पूर्वांचल के भदोही और ज्ञानपुर की सीटों के उम्मीदवारों के नाम हैं जहां से पार्टी ने क्रमशः रविन्द्र तिवारी और महेंद्र बांध को टिकट दिया गया है। इन दोनों ही सीटों पर सातवें चरण में मत डाले जाएंगे।
इसके अलावा पार्टी ने बीकापुर से शोभा सिंह, बलिया नगर से आनन्द शुक्ला, बैरिया से सुरेंद्र सिंह, मुगल सराय से साधना सिंह, सकलडीहा से सूर्यभान तिवारी, सैयदराजा से सुशील सिंह और मरिहान से रामशंकर पटेल को टिकट दिया है।

अब जब कि पहले चरण के चुनाव के लिए पांच दिन ही रह गए हैं, सभी पार्टियों का चुनाव अपने शबाब पर है। इस लिहाज से पार्टी कार्यकर्ता इसे टिकटों के वितरण में देरी मान रहे हैं। स्वाभाविक रूप से अब इन प्रत्याशियों को प्रचार के लिए अपेक्षाकृत कम समय मिलेगा।
पार्टी अभी भी कई सीटों पर अपना फैसला नहीं ले पायी है। यह माना जा रहा है कि कुछ सीटों पर उसकी सहयोगी पार्टियों का दबाव काम कर रहा है जिसकी वजह से बीजेपी अभी तक अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा नहीं कर पायी है। इसमें अपना दल का नाम सबसे आगे हैं। केंद्र सरकार में मंत्री अनुप्रिया पटेल भी बीजेपी के इसी रुख से नाराज बताई जा रही हैं कि बीजेपी ने उसके कोटे की सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं।

0 130

Punjab 75 and Goa 83 Percent voting

चंडीगढ़/पणजी। चुनाव आयोग ने कहा कि पंजाब और गोवा में शनिवार को भारी मतदान हुआ। पंजाब में अनुमानत: 75 प्रतिशत और गोवा में 83 प्रतिशत रिकार्ड मतदान हुआ। इस तरह से पांच राज्यों के विस चुनाव का पहला दौर कुल मिलाकर शांतिपूर्ण संपन्न हुआ। मतदान प्रतिशत का अंतिम आंकड़ा अभी आना बाकी है।

पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी पार्टियांं भाजपा व कांग्रेस दोनों राज्यों में चुनावी मुकाबले में हैं जिसमें अरविंद केजरीवाल नीत आप पहली बार उतरी है। आप दिल्ली के बाहर पहली बार विस चुनाव में उतरी है। सबकी नजर इस पर रहेगी कि क्या आप दोनों प्रमुख राष्ट्रीय पार्टियों की उम्मीदों पर पानी फेर सकती है। भाजपा पंजाब में शिअद के साथ गठबंधन में लगातार दो बार से सत्ता में है जबकि वह गोवा में सरकार में है। गोवा में विस चुनाव से ठीक पहले भाजपा की सहयोगी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी गठबंधन से हट गई थी।

पंजाब व गोवा में चुनाव के बाद यूपी, उत्तराखंड व मणिपुर में चुनाव होगा। इन तीन राज्यों में चुनाव इस महीने के बाद में शुरू होगा और यह मार्च तक खिंचेगा। इस चुनाव को नोटबंदी के बाद भाजपा व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता की सबसे बड़ी परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा है। पंजाब में 2012 में करीब 79 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था। यहां 2012 के विस चुनाव में 81.8 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था। आयोग ने पंजाब के 117 विस क्षेत्रों में से 33 में मतदान की पर्ची देने वाली ईवीएम मशीनें लगाई थीं। अमृतसर लोस सीट के लिए अनुमानत: 57 प्रतिशत मतदान हुआ जहां मुकाबला भाजपा उम्मीदवार राजिंदर मोहन सिंह चीना, कांग्रेस के गुरजीत सिंह औजला व आप के उपकार सिंह संधू के बीच है।

BSP congress samajwadi party MLA join BJP

लखनऊ. यूपी में अगले साल विधानसभ चुनाव से पहले पाला बदलने का खेल शुरू हो गया है। कल ही कांग्रेस और एसपी के चार विधायकों ने बीएसपी का दामन थामा था आज अलग-अलग पार्टियों के 7 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए हैं।

ये लोग बीजेपी में हुए शामिल
बसपा के बाला प्रसाद अवस्थी और राजेश त्रिपाठी बीजेपी में शामिल हुुए हैं। वहीं, कांग्रेस के संजय जायसवाल, विजय दुबे, माधुरी वर्मा और सपा के शेर बहादुर भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। हालांकि, सपा के रामपाल अभी तक बीजेपी दफ्तर नहीं पहुंचे हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि रामपाल मौके पर पाला बदल सकते हैं।

सपा विधायक बसपा में शामिल
बुधवार को कांग्रेस के तीन विधायक और समाजवादी पार्टी के एक विधायक बीएसपी में शामिल हुए। बीएसपी में शामिल होने वाले ये सभी विधायक मुसलमान हैं। कांग्रेस के मोहम्मद मुस्लिम, नवाब काजिम अली खान, दिलनवाज खान और समाजवादी पार्टी के नवाजिश आलम खान हाथ और साइकिल छोड़ हाथी पर सवार हुए।

दलित और मुस्लिम गठजोड़ में लगी बसपा
खास बात ये है कि जैसे-जैसे चुनाव के दिन करीब आ रहे हैं बीएसपी दलित और मुस्लिम गठजोड़ की तरफ बढ़ रही है। परंपरगत तौर पर ब्राह्मण बीएसपी के समर्थक रहे हैं। ऐसे में मायावती की कोशिश मुस्लिम, दलित और ब्राह्मण को साथ लाने की है। यूपी में 21 फीसदी दलित, 20 फीसदी मुसलमान हैं।

0 262

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को अपने आध्यात्मिक गुरु स्वामी दयानंद सरस्वती के निधन पर शोक जताते हुए इसे एक ‘निजी क्षति’ बताया। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट किया , ‘स्वामी दयानंद सरस्वतीजी का निधन एक निजी क्षति है। मैं प्रार्थना करता हूं कि उनकी आत्मा को अनंत शांति मिले।’

उन्होंने आगे  लिखा, ‘मेरे विचार उन अनगिनत लोगों के साथ हैं, जिन्हें दयानंद सरस्वती जी से प्रेरणा मिली है। वह ज्ञान, आध्यात्म और सेवा का सागर थे। वह ज्ञान, आध्यात्म और सेवा के भंडार थे। ‘

Free Arcade Games by Critic.net