Tuesday, December 11, 2018
दुनिया

0 297

काठमांडू। नेपाल के सांसदों ने देश को फिर से हिंदू राष्ट्र बनाने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया है। संविधान सभा (सीए) ने साफ किया कि नेपाल एक धर्मनिरपेक्ष देश बना रहेगा। सात साल पहले नेपाल को धर्मनिरपेक्ष देश घोषित किया गया था।

601 सदस्यीय सीए ने देश के नए संविधान के एक-एक अनुच्छेद पर एक-एक कर मत दिया है और देश के धर्मनिरपेक्ष चरित्र को बनाए रखने पर सहमति जताई है। दुनिया के एकमात्र हिंदू राष्ट्र नेपाल को मई 2008 में एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र घोषित कर दिया गया था।

राजशाही समर्थक राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी-नेपाल के कमल थापा और राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी के अमृत बोहोरा ने मांग की थी कि संविधान से धर्मनिरपेक्षता को हटाकर नेपाल को फिर से हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए।
सीए के अध्यक्ष सुबास चंद्र नेमबांग ने दोनों पार्टियों के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया। इसके बाद कमल थापा ने अपने प्रस्ताव पर मतदान की मांग की।

थापा के प्रस्ताव पर वोटिंग हो या नहीं, पहले यह जानने के लिए मत लिए गए। 601 सदस्यीय संविधान सभा में थापा के प्रस्ताव के पक्ष में महज 21 मत पड़े। नियम के हिसाब से किसी प्रस्ताव को तभी मतदान के लिए रखा जाता है, जब उसे सीए के 61 सदस्यों का समर्थन हासिल होता है। इस तरह नेपाल को फिर से हिंदू राष्ट्र बनाने का प्रस्ताव वोटिंग के राउंड तक भी नहीं पहुंच सका।

0 120

भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास हाल ही में टकराव की स्थिति पैदा हो गई थी। टकराव की यह स्थिति उसी इलाके में पैदा हुई थी जहां पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने अप्रैल 2013 में कैंप लगाए थे और जिसकी वजह से तीन हफ्ते तक गतिरोध की स्थिति बनी हुई थी।

इस घटना से वाकिफ अधिकारियों के मुताबिक, चीनी सेना ने लद्दाख के उत्तर में स्थित बुर्त्से में अस्थायी कुटिया बनाई थी जिसे शुक्रवार को भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) और थलसेना के जवानों ने तोड़ दिया।

बताया जाता है कि चीन की नजर इस इलाके पर है। यह इलाका काराकोरम राजमार्ग की निगरानी में भारत को लाभ पहुंचाता है। काराकोरम राजमार्ग चीन द्वारा अवैध कब्जे में लिए गए क्षेत्र को पाकिस्तान अधिकत कश्मीर से जोड़ता है।

इसके अलावा, दौलत बेग ओल्डी में एक अडवांस्ड ग्राउंड लैंडिंग (एजीएल) सुविधा है जिसे अगस्त 2013 में चालू किया गया था। भारतीय वायुसेना ने समुद्र तट से 16614 फुट की उंचाई पर स्थित इस हवाई पट्टी पर एक सी-130जे सुपर हरक्यूलीज परिवहन विमान को उतारने में सफलता पाई थी।

कुटिया बनाए जाने की सूचना आईटीबीपी के जवानों को मिलते ही इस अर्धसैनिक बल और थलसेना का एक संयुक्त गश्ती दल इलाके में भेजा गया और कुटिया को तोड़ डाला गया।

सूत्रों ने बताया कि फ्लैग मीटिंग की कोशिशें सफल नहीं हो सकीं क्योंकि चीनी पक्ष फ्लैग मीटिंग के लिए तय की गई तारीख पर नहीं आया।

उन्होंने बताया कि पीएलए के सैनिकों ने भारतीय सैनिकों को पीछे धकेलने की कोशिश की थी जिसे नाकाम कर दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि भारतीय सैनिकों ने चीनी भाषा में लिखे बैनर दिखाकर पीएलए को अपनी सीमा में वापस जाने को कहा।

भारत और चीन 4,000 किलोमीटर से ज्यादा लंबी एलएसी साक्षा करते हैं। चीन अरूणाचल प्रदेश के करीब 90,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर अपना दावा जताता है। वह जम्मू-कश्मीर के 38,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर भी अपना दावा जताता है। दिल्ली में रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने इस वाकये पर टिप्पणी से इनकार कर दिया।

0 86

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 सितंबर को सोशल मीडिया क्षेत्र की दिग्गज कंपनी फेसबुक के मुख्यालय जाएंगे। मोदी प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज गूगल के परिसर गूगलप्लेक्स भी जा सकते हैं।

फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने रविवार को घोषणा की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 सितंबर को सिलिकन वैली के मेनलो पार्क में फेसबुक के मुख्यालय आएंगे। मोदी टाउनहॉल सवाल जवाब सत्र के लिए फेसबुक के मुख्यालय आ रहे हैं।

फेसबुक मुख्यालय की यात्रा के दौरान मोदी और जुकरबर्ग इस बात पर विचार करेंगे कि सामाजिक और आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए समुदाय किस प्रकार काम कर सकते हैं।

जुकरबर्ग ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा है, मैं इस बात की घोषणा कर काफी रोमांचित महसूस कर रहा हूं कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसी महीने टाउन प्रश्नोत्तर के लिए फेसबुक मुख्यालय आ रहे हैं।

मोदी ने भी ट्वीट कर इसकी पुष्टि की। मोदी ने ट्वीट किया, मैं मार्क जुकरबर्ग का 27 सितंबर को टाउनहॉल सवाल जवाब सत्र के लिए फेसबुक मुख्यालय आने के आमंत्रण के लिए आभार जताता हूं।

प्रधानमंत्री ने इस सत्र के लिए सवाल आमंत्रित करते हुए ट्वीट किया, टाउनहॉल सवाल जवाब आपकी भागीदारी के बिना अधूरा रहेगा। फेसबुक या नरेंद्र मोदी मोबाइल एप पर सवाल भेजिये।

मोदी के सिलिकल वैली में ही गूगल और वाहन क्षेत्र की कंपनी टेस्ला के फैक्टरी फ्लोर में भी जाने की उम्मीद है। हालांकि, इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है।

जुकरबर्ग ने फेसबुक के प्रयोगकर्ताओं से इस सत्र के लिए अपने सवाल भेजने को कहा है। पोस्ट के नीचे कमेंट में ये सवाल पूछें। हम ज्यादा से ज्यादा सवालों का जवाब पाने का प्रयास करेंगे। इस सत्र का लाइव वीडियो जुकरबर्ग के फेसबुक पेज और प्रधानमंत्री मोदी के सोशल मीडिया वेबसाइट के आधिकारिक पेज पर उपलब्ध होगा।

पिछले साल मोदी के साथ मुलाकात को याद करते हुए जुकरबर्ग ने कहा, फेसबुक में उनकी मेहमाननवाजी का अवसर मेरे लिए काफी सम्मान की बात है।

0 119

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को लेकर पाकिस्‍तान ने भारत को चेतावनी दी है। पाकिस्‍तान के एनएसए सरताज अजीज ने कहा है कि दाऊद इब्राहिम के लिए कोवर्ट अटैक की भारत न सोचे, नहीं तो गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

पाकिस्तानी एनएसए ने कहा कि अगर भारत ने दाऊद इब्राहिम या हाफिज सईद को पकडऩे के लिए किसी तरह का गुप्त ऑपरेशन शुरू किया या हमला किया, तो अंजाम बुरा होगा। इस्लामाबाद में मीडिया से बातचीत के उन्होंने भारत को युद्ध के लिए चेताया है।

अजीज ने कहा कि बीएसएफ और पाकिस्तानी रेंजर्स के बीच मीटिंग जरूरी और महत्वपूर्ण है। लेकिन भारत के प्रधानमंत्री चुनावों में पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाते हैं, जो कि सही संकेत नहीं है। बता दें कि रविवार को पाकिस्तान के आर्मी चीफ राहील शरीफ ने भी भारत को हमले की स्थिति में कभी न भरपाई होने वाले नुकसान की चेतावनी दी थी। इसके जवाब में भारत सरकार के केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा था कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और हम अब पीओके के बारे में भी सोच रहे हैं।

0 125

तुर्की के समुद्र तट पर जिस तीन वर्षीय सीरियाई बच्चे का शव बह कर आ गया था, उसके पिता ने कहा है कि उनके बच्चे उनके हाथों से फिसल गए थे। जब यह घटना हुई, उस समय उनकी नौका यूनान जा रही थी। तुर्की के तट पर पड़े बच्चे के शव की तस्वीर ने दुनिया को हिलाकर रख दिया था।

अब्दुल्ला ने अपने तीन वर्षीय बेटे आयलान, चार वर्षीय बेटे घालेब और पत्नी रिहाना को इस त्रासदी में खो दिया। तुर्की मीडिया ने अब्दुल्ला का उपनाम कुर्दी बताया है लेकिन सीरियाई सूत्रों की मानें तो उसका नाम शीनू है।

अब्दुल्ला कुर्दी ने तुर्की की डोगान समाचार एजेंसी को कल नौका डूबने वाले क्षण के बारे में बताया, मैंने अपनी पत्नी का हाथ पकड़ा हुआ था लेकिन मेरे बच्चे मेरे हाथों से फिसल गए। वहां अंधेरा था और हर तरफ चीख पुकार मची थी। हमने छोटी नौका से चिपके रहने की कोशिश की लेकिन उसकी हवा निकल रही थी।

एएफपी के फोटोग्राफर के अनुसार, बेहद दुखी अब्दुल्ला कल बोद्रुम के शवगृह के पास बैठे देखे गए। अपने परिजनों के शवों को नगर निकाय की वैन में रखे जाने का इंतजार करते हुए उनकी नजरें लगातार उनके फोन पर टिकी थीं। यूनानी द्वीप कॉस की ओर जा रही दौ नौकाएं बुधवार को तुर्की जलक्षेत्र में डूब गई थीं, जिसके कारण 12 सीरियाई प्रवासी मारे गए थे।

इस पूरी त्रासदी में तीन वर्षीय आयलान की मौत ने दुनियाभर का ध्यान खींचा है। आयलान का शव एक तस्वीर में बोद्रुम के एक रिजॉर्ट के तट पर पड़ा हुआ दिखाया गया। यह तस्वीर जल्दी ही वायरल हो गई और शरणार्थियों की त्रासदी का एक प्रतीक बन गई।

दूसरी तस्वीर में एक तुर्की सुरक्षा अधिकारी बच्चे को अपनी गोद में उठाकर ले जाता हुआ दिखाया गया है। तुर्की मीडिया ने कहा कि अब्दुल्ला अपने परिवार और लगभग तीन अन्य सीरियाई लोगों के साथ इस जलक्षेत्र को पार करने की कोशिश कर रहे थे।

ओटावा सिटीजन अखबार की खबर में कहा गया कि परिवार अंतत: कनाडा जाने की कोशिश कर रहा था। अखबार में कहा गया कि उनकी बहन टीमा ने शरणार्थी आवेदन को प्रायोजित किया था लेकिन कनाडा के आव्रजन अधिकारियों ने इसे जून में खारिज कर दिया था। टीमा २० साल पहले कनाडा में जा बसी थीं और अब वह वैंकूवर में हेयरड्रेसर के तौर पर काम करती हैं।

अखबार ने टीमा कुर्दी के हवाले से कहा, मैं उन्हें आर्थिक संरक्षण देने की कोशिश कर रही थी और मेरे दोस्तों और पड़ोसियों ने बैंक राशियों के लिए मेरी मदद की। लेकिन हम उन्हें निकाल नहीं पाए, इसीलिए वे नौका में गए।

हालांकि कनाडा के आव्रजन विभाग ने कहा कि अब्दुल्ला कुर्दी और उनके परिवार की ओर से आवेदन का कोई रिकॉर्ड नहीं है। लेकिन उनके भाई मोहम्मद कुर्दी और उनके परिवार का एक अधूरे फॉर्म का रिकॉर्ड जरूर है। कनाडियाई आव्रजन एवं नागरिकता विभाग ने एक बयान में कहा कि प्रशासन को अब्दुल्ला कुर्दी और उसके परिवार की ओर से किए गए किसी आवेदन का सुराग नहीं मिला।

0 160

जर्मनी की विमानन कंपनी ‘लुफ्थांसा’ की सस्ती सेवा प्रदाता द्वारा संचालित एक विमान मंगलवार कोफ्रांस में आल्प्स के सुदूरवर्ती क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया और इसमें सवार सभी 150 यात्रियों की मौत हो गई। यह फ्रांस में दशकों का सबसे बड़ा विमान हादसा है। दुर्घटना का कारण पूरी तरह से रहस्य बना हुआ है और अधिकारियों ने दुर्घटनास्थल से जर्मनविंग्स एयरबस ए 320 का ब्लैक बाक्स बरामद कर लिया है जहां पर्वतीय क्षेत्र होने के कारण राहत कार्य बाधित हुआ है। जर्मनविंग्स ने कहा कि एयरबस ए320 दक्षिणपूर्वी फ्रांस के बर्फ से ढके पर्वतीय क्षेत्र में जा गिरा। लेकिन फ्रांस के अधिकारियों ने कहा कि संकट होने का कोई सिग्नल जारी नहीं किया गया। विमान में 144 स्पेनिश और जर्मन यात्रियों के अलावा चालक दल के छह सदस्य सवार थे। यह विमान बार्सिलोना से पश्चिमी जर्मनी के शहर दुसेल्दोर्फ जा रहा था और यह बार्सिलोनेटे स्की रिसोर्ट के पास दुर्घटनाग्रस्त हुआ। फ्रांस के गृह मंत्री बेर्नार्ड काजेनेव ने कहा कि दुर्घटनाग्रस्त विमान का ब्लैक बॉक्स मिल गया है और इसे जांचकर्ताओं को सौंपा जाएगा। हादसे का कारण खराब मौसम नहीं लग रहा है क्योंकि घटना के समय मौसम शांत था। फ्रांस के प्रधानमंत्री मैनुअल वाल्स ने कहा कि कोई जीवित नहीं बचा और अधिकारी हादसे की किसी भी वजह से इनकार नहीं कर सकते। जर्मन अधिकारियों ने कहा कि दुर्घटनाग्रस्त विमान में स्कूल की ओर से यात्रा पर आए 16 जर्मन किशोर भी सवार थे। फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलोंद ने कहा कि वह बुधवार को हादसा स्थल पर अपने जर्मन और स्पेनिश समकक्ष से मिलेंगे। फ्रांस के उप परिवहन मंत्री अलैन विडालीज ने कहा कि स्पेन के बार्सिलोना से जर्मनी के डूसेलडोर्फ जा रहा विमान ‘ऐस्ट्रोप शृंखला’ में हादसे का शिकार हुआ। यह क्षेत्र बर्फ से लदा और (जमीन पर चलने वाले) वाहनों की पहुंच से बाहर है लेकिन वहां हेलीकॉप्टर से पहुंचा जा सकता है।

४ 144 स्पेनिश-जर्मन यात्रियों के अलावा चालक दल के छह सदस्य थे सवार ४ फ्रांस के आल्प्स में हुआ हादसा, ब्लैक बॉक्स मिला ४ बार्सिलोना से जर्मनी के दुसेल्दोर्फ जा रहा था सस्ती सेवा का विमान

0 234
आत्मघाती हमलावरों ने शुक्रवार को यमन की राजधानी सना में दो मस्जिदों में शक्तिशाली धमाके किए। धमाकों के वक्त मस्जिदों में दोपहर की नमाज अदा की जा रही थी। इस हमले में 145 लोग मारे गए हैं। हाउथी मिलिशिया और शिया लोगों को निशाना बनाकर किए इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली है।
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हमलावरों ने दक्षिणी सना की बद्र मस्जिद में पहला धमाका किया। इसके बाद मची भगदड़ के दौरान मस्जिद के बाहर दूसरे हमलावर ने खुद को विस्फोटक से उड़ा दिया। उत्तरी सना की अल-हशूश मस्जिद को निशाना बनाकर तीसरा आत्मघाती धमाका किया गया।
हेल्थ मिनिस्ट्री ऑपरेशन कमिटी के सदस्य नाशवान अल-अतब ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि धमाकों में 142 लोगों की मौत हुई है और 351 से ज्यादा घायल हुए हैं। मेडिकल सूत्रों के मुताबिक, हमले में बद्र मस्जिद के इमाम की भी मौत हो गई है।
हाउथी मिलिशिया द्वारा चलाए जा रहे टीवी चैनल अल-मशीरा पर बताया गया कि स्थानीय अस्पतालों ने लोगों से ब्लड डोनेशन की अपील की है। अल-मशीरा चैनल द्वारा टेलिकास्ट फुटेज में मस्जिद के बाहर खून से सने शव बिखरे दिख रहे हैं। घटनास्थल पर बचावकर्मी घायलों को पिकअप ट्रक्स में डालकर अस्पताल ले जाते दिख रहे हैं।
इस्लामिक स्टेट की सना ब्रांच ने एक ऑनलाइन स्टेटमेंट जारी कर कहा, “काफिर हाउथी लड़ाकों को मालूम होना चाहिए कि इस्लामिक स्टेट उनका सफाया करके ही चैन की सांस लेगा। आईएसआईएस यमन में ईरानी मंसूबों को कामयाब नहीं होने देगा।”

0 169

तमाम विरोध और दिक्कतोंं के बीच इजरायल के आम चुनाव में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की लिकुद पार्टी ने बुधवार को आश्चर्यजनक जीत दर्ज कराई है। इसके साथ ही नेतन्याहू के रिकॉर्ड चौथी बार प्रधानमंत्री बनने का रास्ता खुल गया है। आम चुनावों में यह नेतन्याहू ने लगातार तीसरी जीत है। गौरतलब है कि नेतन्याहू ने चुनाव प्रचार में अंतिम वक्त पर फलस्तीनी राज्य संबंधी अपनी पुरानी नीति को बदलने की बात कही थी। अपनी लिकुद पार्टी की जीत की घोषणा करते हुए नेतन्याहू ने कहा कि सभी दिक्कतों के बावजूद, लिकुद के लिए हमने आश्चर्यजनक जीत हासिल की है।

0 745

लाहौर में पाकिस्तान की सबसे बड़ी ईसाई कालोनी में दो गिरिजाघरों में रविवार की प्रार्थना के दौरान दो आत्मघाती हमलावरों द्वारा किए गए विस्फोट में दो पुलिसकर्मी समेत कम से कम 15 लोग मारे गए व 80 से ज्यादा घायल हो गए। हमलावरों ने पंजाब प्रांत की राजधानी लाहौर के योहानाबाद इलाके में स्थित रोमन कैथोलिक चर्च व क्राइस्ट चर्च के दरवाजों पर विस्फोट कर दिया जिसके बाद वहां भगदड़ मच गई। हमलों के बाद भीड़ ने दो संदिग्ध आतंकियों को पीट-पीटकर उन्हें जला दिया जिससे उनकी मौत हो गई। स्थानीय ईसाई नेता असलम परवेज सहोत्रा ने कहा कि प्रार्थना सभा चल रही थी तभी हमलावर वहां पहुंचे व चर्चों में घुसने का प्रयास किया। जब सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें वहां घुसने से रोका तो उन्होंने वहीं विस्फोट कर दिया। घटना के समय चर्चों में बड़ी संख्या में ईसाई समुदाय के लोग थे। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान से अलग हुए जमात-उलअहरार ने हमले की जिम्मेदारी ली है। इसी संगठन ने पिछले साल सितंबर में वाघा सीमा पर हुए आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी ली थी जिसमें 60 लोग मारे गए थे। स्वास्थ्य महानिदेशक जाहिद परवेज ने लाहौर जनरल अस्पताल के बाहर कहा कि कुछ घायलों की हालत गंभीर है इसलिए मृतक संख्या बढ़ सकती है। पंजाब सरकार के प्रवक्ता जईम कादरी ने कहा कि दोनों चर्चों के बाहर पांच पुलिसकर्मी तैनात थे। इनमें से दो की जान चली गई वहीं तीन अन्य गंभीर हालत में हैं। उन दोनों की शहादत से बड़ी संख्या में लोगों की जान बच गई। लोगों ने दो संदिग्धों को पकड़ा जो आत्मघाती हमलावरों के साथी लग रहे थे। आक्रोशित भीड़ ने दोनों आतंकियों की पिटाई के बाद उन्हें जला दिया।

.संदिग्धों ने माना कि वे आत्मघाती हमलावर के साथी थे व अभियान पर नजर रखने के लिए आए थे। लाहौर के उप महानिरीक्षक हैदर अशरफ ने कहा कि हमने उग्र भीड़ को नहीं रोका क्योंकि पुलिस और भीड़ के बीच संघर्ष हो सकता था। योहानाबाद में कम से कम दस लाख लोग रहते हैं व यहां 150 से अधिक चर्च हैं। यहां हालात तनावपूर्ण हैं। पाक में अल्पसंख्यक समुदायों को लंबे समय से चरमपंथियों व आतंकी समूहों द्वारा निशाना बनाया जाता रहा है। 2013 में पेशावर में ऑल सेंट्स चर्च पर आत्मघाती हमलों में 80 लोग मारे गए थे। घटना के बाद ईसाई सड़कों पर उतरे और शहर में अनेक रास्तों पर यातायात अवरुद्ध कर दिया। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी हमले की निंदा की व कायराना कृत्य करार दिया। लाहौर पुलिस ने दो अलग-अलग मामले दर्ज कर लिए हैं। एक दोनों चर्चों पर हमले के खिलाफ व दूसरा दोनों संदिग्धों को जान से मारने में शामिल लोगों के खिलाफ है। आतंकी आत्मघाती जैकेट पहने थे और पांच-पांच किग्रा विस्फोटक लेकर आए थे। पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ ने मृतक परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की व घायलों को 75-75 हजार रुपए देने की घोषणा की।

कोलंबो। भारत और श्रीलंका के बीच चार समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। साथ ही रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण इस पड़ोसी देश के साथ गठजोड़ मजबूत करने के उद्देश्य से कई पहलों की घोषणा भी की गई। दोनों देशों के बीच वीजा, सीमा शुल्क, युवा विकास व श्रीलंका में रवींद्रनाथ टैगोर स्मारक बनाने से जुड़े चार करार हुए। आर्थिक संबंधों को आगे बढ़ाने की अपनी इच्छा जताते हुए दोनों देशों ने उत्पाद शुल्क सहयोग पर एक समझौते के तहत दोनों पक्षों पर गैरशुल्क बाधाएं कम करने तथा कारोबार आसान बनाने के लिए कदम उठाए। आरबीआई व श्रीलंका के केंद्रीय बैंक के बीच 1.5 अरब डॉलर की मुद्रा अदला-बदली पर सहमति भी बनी। श्रीलंका के त्रिंकोमाली शहर को पेट्रोलियम पदार्थों का एक बड़ा क्षेत्रीय केंद्र बनाने में भारत मदद करेगा। इसके तहत इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन और श्रीलंका के सिलोन पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन के बीच समझौता हुआ है।

कोलंबो (भाषा)। भारत और श्रीलंका की सुरक्षा को अविभाज्य बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार कोसमुद्री सुरक्षा व आतंकवाद निरोधक कार्रवाई के प्रमुख क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने की पुरजोर वकालत की। मोदी ने श्रीलंका की संसद को संबोधित करते हुए कहा कि श्रीलंका की एकता व अखंडता भारत के लिए सर्वोपरि है व हालिया चुनावों ने देश में बदलाव और सुलह की उम्मीद झलकाई है। उन्होंने श्रीलंका की विकास यात्रा में भारत की ओर से पूरे समर्थन की घोषणा भी की। मोदी यहां की संसद मंे भाषण देने वाले चौथे भारतीय प्रधानमंत्री हैं। इससे पहले जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी व मोरारजी देसाई श्रीलंकाई संसद को संबोधित कर चुके हैं। मोदी ने यह संदेश दिया कि भारत शांति व समन्वय की अपनी नई यात्रा में तमिलों के लिए समानता, न्याय, शांति व गरिमापूर्ण जीवन का समर्थन करता है। गौरतलब है कि पिछले 28 साल में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यह पहली द्विपक्षीय यात्रा है। इससे पहले राजीव गांधी 1987 में यहां आए थे और उनके दौरे के बाद दोनों देशों के संबंधों में कई मोड़ आए हैं और चीन ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराने का प्रयास किया। (शेष पेज-2 पर)

४ तमिलों के लिए शांति और गरिमापूर्ण जीवन का किया समर्थन ४ मछुआरों के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी ने सिरिसेना से की वार्ता, जताई समाधान की उम्मीद ४ इससे पहले नेहरू, इंदिरा व मोरारजी इस पड़ोसी देश की संसद को कर चुके हैं संबोधित

Free Arcade Games by Critic.net