Friday, October 19, 2018
खेल

0 209

ऐसा क्या हुआ की सचिन कुछ बोल न सके

नई दिल्ली.

गुजरात चुनावों के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह पर की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी को लेकर राज्यसभा में बृहस्पतिवार को भी कांग्रेस का विरोध और नारेबाजी जारी रही। यही नहीं, सदन में पहली बार भाषण देने के लिए खड़े हुए सचिन तेंदुलकर को भी बोलने नहीं दिया गया।

दरअसल, सदन में सुबह प्रधानमंत्री की टिप्पणी और 2जी घोटाला मामले पर हुए हंगामे के बाद सभापति एम. वेंकैया नायडू ने कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी थी। जब कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो वेंकैया अल्पकालिक चर्चा की शुरुआत तेंदुलकर से करवाना चाहते थे। तेंदुलकर को खेल के अधिकार और देश में खेलों के भविष्य पर चर्चा की शुरुआत करनी थी। इस बीच सपा के नरेश अग्रवाल ने 2जी मामले में व्यवस्था का सवाल उठा दिया।

इसके बाद वेंकैया ने यह कहते हुए चर्चा की शुरुआत करने की कोशिश की कि यह तेंदुलकर का पहला भाषण है और उन्हें सुना जाना चाहिए, लेकिन तुरंत ही कांग्रेस के कई सदस्य खड़े हो गए और प्रधानमंत्री की टिप्पणी का मुद्दा उठाते हुए ‘देश को गुमराह करना बंद करो’ के नारे लगाने लगे। वे प्रधानमंत्री मोदी द्वारा माफी मांगे जाने की मांग कर रहे थे।

वेंकैया ने सदस्यों से कहा कि ‘भारत रत्न’ सचिन तेंदुलकर ने देश के लिए काफी कुछ किया है, वह आदर्श शख्सियत और युवाओं के प्रेरणास्नोत हैं, लेकिन इसके बावजूद विपक्ष ने शोरगुल और विरोध जारी रखा। नाराज वेंकैया ने तेंदुलकर से भाषण शुरू करने के लिए कहा। सपा की जया बच्चन ने भी तेंदुलकर के बोलने का समर्थन किया, लेकिन वह सिर्फ खड़े होकर देखते रह गए, क्योंकि विपक्षी सदस्य लगातार नारेबाजी करते रहे। इस पर वेंकैया ने कहा, वह नहीं चाहते कि लोग टीवी पर ऐसे दृश्य देखें और उन्होंने सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी।

राज्यसभा में बृहस्पतिवार को बोलने के लिए खड़े महान क्रिकेटर और सांसद सचिन तेंदुलकर ’ प्रेट्रमुख्य विपक्षी दल के रूप में दिशा खो चुकी है कांग्रेस 1खेलों के गैर-राजनीतिक मुद्दे पर भी सचिन तेंदुलकर को नहीं बोलने देने के लिए सरकार ने कांग्रेस की आलोचना की है। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि मुख्य विपक्षी दल के रूप में कांग्रेस अपना आधार और दिशा दोनों खो चुकी है। गुरुवार को कांग्रेस ने बिल्कुल अलोकतांत्रिक तरीके से व्यवहार किया। सभापति के बार-बार अनुरोध करने पर भी उन्हें (तेंदुलकर) बेहद महत्वपूर्ण और जनहित के मुद्दे पर बोलने नहीं दिया गया।

0 252

saniya mirja will not appear before officers in tax evasion

नई दिल्ली। सेवाकर के कथित तौर पर भुगतान नहीं किए जाने के मामले में टेनिस स्टार सानिया मिर्जा व्यक्तिगत रूप से अधिकारियों के समक्ष उपस्थित नहीं हो पायेंगी। खबरों की मानें तो 16 फरवरी को उनकी अनुपस्थिति में एक प्रतिनिधि अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत होगा। कहा जा रहा है कि सानिया ऑस्ट्रेलिया गयी हैं और वहां से वह अमेरिका जाएंगी। इसलिए वह अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत नहीं हो पाएंगी।

अधिकारियों और उनके द्वारा अधिकृत व्यक्ति के बीच बैठक के बाद ही यह तय होगा कि सेवाकर विभाग द्वारा किये गये दावे के अनुसार सेवा कर का भुगतान किया जाये या फिर इसका विरोध किया जाये।

बता दें कि सेवाकर विभाग के प्रधान आयुक्त ने छह फरवरी को इस टेनिस स्टार को सम्मन जारी किया था तथा उन्हें या उनके द्वारा अधिकृत व्यक्ति को 16 फरवरी को पेश होने के लिये कहा था। नोटिस में कहा गया है कि वित्त कानून, 1994 के प्रावधानों और नियमों के संबंध में सेवाकर के गैर भुगतान या अपवंचना को लेकर आपके खिलाफ जांच के संबंध में पूछताछ की जानी है। मेरे पास यह विश्वास करने का कारण है कि आपके पास इस जांच से जुड़े तथ्य या और दस्तावेज हैं।

0 504

नई दिल्ली: बीसीसीआई अध्यक्ष जगमोहन डालमिया का निधन हो गया है. दो दिनों पहले ही उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 75 साल की उम्र में उन्होंने आज अंतिम सांस लीं. तीन दिन पहले ही डालमिया को सीने में दर्द की शिकायत हुई थी.

BCCI और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डालमिया के निधन पर गहरा शोक जताया है. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और पीएम नरेंद्र मोदी ने भी डालमिया के निधन पर शोक व्यक्त किया है. सीने में दर्द की शिकायत के बाद बीसीसीआई अध्यक्ष जगमोहन डालमिया को तीन दिन पहले बीएम बिड़ला हार्ट रिसर्च इंस्टिट्यूट में भर्ती कराया गया था.

जगमोहन डालमिया की पहचान दुनिया भर में क्रिकेट प्रशासक के तौर पर रही. डालमिया क्रिकेट की सबसे बड़ी संस्था ICC के अध्यक्ष भी रहे. माना जा रहा है कि बीसीसीआई और क्रिकेट जगत के लिए यह एक बड़ा झटका है

0 315

क्रिकेट जगत का एक खास मैच गुरुवार को ‘हेल्प फॉर हीरोज 11’ (एचएफएच-11) और ‘रेस्ट ऑफ द वर्ल्ड 11’ (आरओडब्ल्यू-11) के बीच खेला गया। ब्रिटिश आर्मी के लिए खेला गया यह मैच ‘हेल्प फॉर हीरोज’ की तरफ से चैरिटी मैच था। वीरेंद्र सहवाग और महेंद्र सिंह धोनी ‘एचएफएच-11’ की जीत के हीरो रहे।

ओवल ग्राउंड पर खेले गए मैच में आरओडब्ल्यू-11 ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में 6 विकेट पर 156 रन बनाए। मैथ्यू हेडन ने 36 रनों की पारी खेली। हेडन के अलावा महेला जयवर्धने और ब्रेंडन मैकलम ने भी बढ़िया बल्लेबाजी की। एचएफएच-11 की ओर से डेरेन गॉफ और ग्रीम स्वान ने अच्छी गेंदबाजी की।

जवाब में वीरेंद्र सहवाग (30) और एंड्रयू स्ट्रॉस (26) ने एचएफएच-11 तो अच्छी शुरुआत दिलाई। दोनों ने मिलकर 6 ओवर में स्कोर बिना किसी विकेट के 63 रनों तक पहुंचा दिया। इन दोनों के आउट होने के बाद एचएफएच-11 का रनरेट भी गिरने लगा। डेमियन मार्टिन भी जल्द ही पवेलियन लौट गए।

10 ओवर में 77 रन पर तीन विकेट स्कोर था। इसके बाद हर्शल गिब्स का साथ देने महेंद्र सिंह धोनी पहुंचे। लेकिन गिब्स भी जल्द ही आउट हो गए। 10 ओवर में 82 रनों की दरकार थी। धोनी जब बल्लेबाजी के लिए जा रहे थे तो क्राउड भी ‘धोनी-धोनी’ चिल्ला रहा था। आखिरी ओवर में बाउंड्री के साथ धोनी ने मैच एचएफएच-11 की झोली में डाल दिया।

एचएफएच-11 ने तीन गेंद शेष रहते ही पांच विकेट से यह मैच जीत लिया। धोनी को मैन ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने 22 गेंद पर 38 रन बनाए और स्टंप के पीछे भी शानदार प्रदर्शन किया। इस मैच के जरिए करीब तीन लाख यूरो फंड रेज किया गया।

0 697
कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स और पंडितों द्बारा भरोसा जताए जाने के बाद अब चेन्नई में चाणक्य 2 नाम की मछली ने भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले जाने वाले दूसरे सेमीफाइनल मैच में टीम इंडिया की जीत की भविष्यवाणी की है। यह मैच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर गुरुवार सुबह खेला जाएगा। ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच जबरदस्त मुकाबले की उम्मीद की जा रही है। जीतने वाली टीम रविवार को मेलबर्न में न्यूजीलैंड के खिलाफ फाइनल खेलेगी।
न्यूज एजेंसी एएनआई की ओर से सोशल मीडिया पर ट्वीट किए गए एक वीडियो में चाणक्य 2 नाम की इस मछली ने भारतीय झंडे को दो बार टच किया। दरअसल, मछली को एक एक्वेरियम में रखा गया है। इसमें दोनों देशों के झंडे को डाला गया। हर झंडे के नीचे लगी बास्केट में मछली का चारा होता है। बता दें कि 23 मार्च को भी चाणक्य 2 ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ न्यूजीलैंड की जीत की भविष्यवाणी की थी। कुछ साल पहले विश्व कप फुटबॉल के दौरान पॉल नाम का ऑक्टोपस भी अपनी भविष्यावाणियों के लिए मशहूर हुआ था।

0 385

ग्रांट इलियट के नाबाद जुझारू अर्धशतक की मदद से न्यूजीलैंड ने दक्षिण अफ्रीका को एक बार फिर चोकर साबित करते हुए डकवर्थ लुईस पद्धति के आधार पर चार विकेट की जीत के साथ पहली बार आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई। रिकार्ड सातवीं बार सेमीफाइनल में खेल रहे न्यूजीलैंड ने इलियट की 73 गेंद में सात चौकों और तीन छक्कों की मदद से खेली नाबाद 84 रन की पारी की बदौलत एक गेंद शेष रहते छह विकेट पर 299 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका के 298 रन के लक्ष्य का हासिल कर लिया। इलियट ने कोरी एंडरसन (58) के साथ पांचवें विकेट के लिए 103 रन की साझेदारी भी की। उन्होंने डेल स्टेन पर छक्का जड़कर अपनी टीम को जीत दिलाई। इससे पहले कप्तान ब्रैंडन मैकुलम ने भी सिर्फ 26 गेंद में 59 रन की पारी खेली। दक्षिण अफ्रीका ने फाफ डु प्लेसिस (107 गेंद में 82) और कप्तान एबी डिविलियर्स (45 गेंद में नाबाद 65) की उम्दा पारियों के बाद डेविड मिलर (18 गेंद में 49 रन) की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की मदद से पांच विकेट पर 281 रन बनाए। लक्ष्य को डकवर्थ लुईस के आधार पर दोबारा तय किया गया क्योंकि ईडन पार्क पर बारिश के कारण लगभग दो घंटे खेल रुकने के कारण मैच को 50 ओवर की जगह 43 ओवर का कर दिया गया। दक्षिण अफ्रीका की हार में खराब क्षेत्ररक्षण की भी भूमिका रही क्योंकि उसने विरोधी बल्लेबाजों को आउट करने के कुछ मौके भी गंवाए। इलियट भी दो बार आउट होने से बचे। मैकुलम ने एक बार फिर तूफानी शुरूआत दिलाई। उन्होंने सिर्फ 22 गेंद में अर्धशतक पूरा किया। स्टेन पर छक्के से शुरुआत करने के बाद उन्हांेेने फिलेंडर के पारी के दूसरे ओवर में भी एक छक्का और दो चौके मारे। मैकुलम ने पांचवें ओवर में स्टेन को निशाना बनाते हुए दो छक्कों और तीन चौकों की मदद से 25 रन जुटाए और इस दौरान अर्धशतक भी पूरा किया। न्यूजीलैंड ने पांच ओवर में 71 रन बनाए। मोर्ने मोर्कल ने मैकुलम को मिड आन पर स्टेन के हाथों कैच कराके कुछ राहत दी। उन्होंने 26 गेंद की अपनी पारी में आठ चौके और चार छक्के मारे। विलियमसन (06) भी मोर्कल की गेंद को विकेटों पर खेलकर पवेलियन लौटे जबकि पिछले मैच में नाबाद दोहरा शतक जड़ने वाले सलामी बल्लेबाज गुप्टिल (34) टेलर के साथ गलतफहमी का शिकार होकर रन आउट हुए जिससे स्कोर तीन विकेट पर 128 रन हो गया। टेलर भी कुछ देर टिकने के बाद पिछले मैच में हैट्रिक बनाने वाले जेपी डुमिनी की गेंद पर विकेटकीपर को कैच दे बैठे। इलियट और एंडरसन ने इसके बाद पारी को संभाला। दोनों ने 31वें ओवर में टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया। डिविलियर्स ने 32वें ओवर में एंडरसन को रन आउट करने का बेहद आसान मौका गंवा दिया। पारी के 36वें ओवर में एंडरसन और इलियट ने ताहिर पर चौके जड़कर क्रमश: 46 और 53 गेंद पर अर्धशतक पूरे किए। एंडरसन मोर्कल की गेंद का हवा में लहराने के बाद डु प्लेसिस को कैच दे बैठे। उन्होंेने 57 गेंद की अपनी पारी में छह चौके और दो छक्के मारे। न्यूजीलैंड को अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए 46 रन की दरकार थी। स्टेन ने 41वें ओवर में ल्यूक रोंची (08) को रिली रोसेयु के हाथों कैच कराके दक्षिण अफ्रीका का पलड़ा भारी किया। दक्षिण अफ्रीका ने इसके बाद दो गलतियां की जो उसे भारी पड़ी। पारी के 41वें ओवर मंे इलियट दूसरे रन के लिए भागे और रिली रोसेयु के थ्रो पर डिकाक के पास उन्हें रन आउट करने का मौका था लेकिन वह गेंद को अपने कब्जे में नहीं ले पाए। अगले ओवर में इलियट मोर्कल की गेंद को हवा में लहरा गए और फरहान बेहरीदन इसे लपकने के लिए पहुंच भी गए थे लेकिन तभी फाइन लेग से भागते हुए डुमिनी बीच में आ गए और कैच छूट गया। विटोरी (नाबाद सात) ने पहले स्टेन पर चौका मारा और फिर इलियट ने पांचवीं गेंद पर छक्का जड़कर न्यूजीलैंड को पहली बार फाइनल में पहुंचा दिया और दक्षिण अफ्रीका को चौथी बार सेमीफाइनल में हार के बाद विश्व कप से खाली हाथ स्वदेश लौटना होगा। न्यूजीलैंड ने इसके साथ ही डिविलियर्स को भी कड़ा जवाब दे दिया जिन्होंेने कहा था कि अब उनकी टीम को खिताब जीतने से कोई नहीं रोक सकता। इससे पहले मिलर ने अपनी पारी में छह चौके और तीन छक्के मारे। वह विश्व कप में सबसे तेज अर्धशतक के रिकार्ड की बराबरी करने से चूक गए। उन्होंने डिविलियर्स के साथ चार ओवर में 55 रन की साझेदारी की। दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 38 ओवर के बाद तीन विकेट पर 216 रन था लेकिन मिलर की पारी की मदद से टीम ने अंतिम पांच ओवर में 65 रन जोड़े। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका को शुरूआत में परेशानी हुई। तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट (53 रन पर दो विकेट) ने दोनों सलामी बल्लेबाजों हाशिम अमला (10) और क्विंटन डि काक (14) को आठवें ओवर तक पवेलियन भेज दिया जबकि टीम का स्कोर 31 रन ही था। इन दोनों को जीवनदान मिला लेकिन वे इसका फायदा नहीं उठा पाए।

जीत के नायक ग्रांट इलियट ने दक्षिण अफ्रीका के जबड़े से निकाली जीत, नाबाद 84 रन की खेली पारी

दक्षिण अफ्रीका : 43 ओवर में पांच विकेट पर 281 रन अमला बो बोल्ट 10, डि काक का साउथी बो बोल्ट 14, डु प्लेसिस का रोंची बो एंडरसन 82, रोसेयु का गुप्टिल बो एंडरसन 39, डिविलियर्स नाबाद 65, मिलर का रोंची बो एंडरसन 49, डुमिनी नाबाद 08 अतिरिक्त: 14 विकेट पतन: 1-21, 2-31, 3-114, 4-217, 5-272 गेंदबाजी: साउथी 9-1-55-0, बोल्ट 9-0-53-2, हेनरी 8-2-40-0, विटोरी 9-0-46-0, विलियमसन 1-0-5-0, इलियट 1-0-9-0, एंडरसन 6-0-72-3न्यूजीलैंड : 42.5 ओवर में छह विकेट पर 299 रन गुप्टिल रन आउट 34, मैकुलम का स्टेन बो मोर्कल 59, विलियमसन बो मोर्कल 06,टेलर का डिकाक बो डुमिनी 30, इलियट नाबाद 84, एंडरसन का डु प्लेसिस बो मोर्कल 58, ल्यूक रोंची का रोसेयु बो स्टेन 08, विटोरी नाबाद 07 अतिरिक्त: 13 विकेट पतन: 1-71, 2-81, 3-128, 4-149, 5-252, 6-269 गेंदबाजी: स्टेन 8.5-0-76-1, फिलेंडर 8-0-52-0, मोर्कल 9-0-59-3, ताहिर 9-1-40-0 डुमिनी 5-0-43-1, डिविलियर्स 3-0-21-0

0 430

वर्ल्ड कप अंतिम चरण में पहुंचते ही और रोचक हो गया है। खेल तो शबाब पर है ही, स्लेजिंग भी शुरू हो गई है। क्वार्टर फाइनल में रूबेल हुसैन ने विराट कोहली को उकसाने की कोशिश की। ऑस्ट्रेलिया-पाकिस्तान के क्वार्टर फाइनल में वहाब रियाज और शेन वाटसन के बीच भी जो दिखा, वह ट्रेलर भर ही था। माना जा रहा है कि क्वार्टर फाइनल में तो स्लेजिंग का ट्रेलर दिखा था, 26 मार्च होने वाले दूसरे सेमीफाइनल में इसका क्लाइमेक्स दिख सकता है।

दूसरा सेमीफाइनल ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच है, जिसमें असल रोमांच स्लेजिंग से पैदा हो सकता है। टीम इंडिया के स्टार बैट्समैन विराट कोहली को लेकर निश्चित ही कंगारू कुछ माइंडगेम तैयार कर रहे होंगे। मैदान पर नोंक-झोंक दिख सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि स्लेजिंग ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का प्रमुख हथियार रही है। बड़े मैचों में वे इसका इस्तेमाल जरूर करते हैं। निशाने पर विरोधी टीम का स्टार या ऐसा खिलाड़ी होता है, जो जल्दी भड़क जाए और कोहली में ये दोनों ही बातें हैं।
विराट पर निशाना इसलिए
पिछले साल टेस्ट सीरीज के दौरान कंगारुओं ने विराट को ‘बिगड़ैल बच्चा’ तक कहा। मिशेल जॉनसन ने स्लेजिंग की शुरुआत की लेकिन विराट भी चुप नहीं रहे। दिल्ली के इस दिलेर ने उन्हीं की शैली में जवाब देकर बताया कि चुप रहना उसका स्वभाव नहीं है। जाहिर है, वार्नर, स्टार्क, वाटसन सेमीफाइनल में भारतीयों को उकसाने की कसर नहीं छोड़ेंगे। निशाने पर धवन और रोहित भी हो सकते हैं। कोहली, तो दूसरी टीमों के निशाने पर भी रहे हैं।

0 164

जोश हेजलवुड की अगुवाई में गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के बाद शेन वाटसन और स्टीवन स्मिथ के अर्धशतकों की मदद से ऑस्ट्रेलिया ने यहां आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के तीसरे क्वार्टर फाइनल में पाकिस्तान को छह विकेट से हराकर सेमीफाइनल में भारत से रोमांचक मुकाबले की नींव रखी। पाकिस्तान के 214 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने वाटसन की 66 गेंद में सात चौकों और एक छक्के की मदद से नाबाद 64 रन की पारी के अलावा स्मिथ (69 गेंद में 65 रन) के साथ उनकी चौथे विकेट की 89 और ग्लेन मैक्सवेल (29 गेंद में नाबाद 44) के साथ पांचवें विकेट के लिए सिर्फ 7.1 ओवर में 68 रन की अटूट साझेदारी की मदद से 97 गेंद शेष रहते चार विकेट पर 216 रन बनाकर जीत दर्ज की। पाकिस्तान को खराब क्षेत्ररक्षण का भी खामियाजा भुगतना पड़ा और उसके क्षेत्ररक्षकों ने वाटसन और मैक्सवेल को जीवनदान दिए जिससे ऑस्ट्रेलिया की जीत आसान हुई। ऑस्ट्रेलिया अब 26 मार्च को सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर होने वाले सेमीफाइनल में भारत से भिड़ेगा।इससे पहले हेजलवुड (35 रन पर चार विकेट) की धारदार गेंदबाजी के सामने पाकिस्तान की टीम 49.5 ओवर में 213 रन पर ढेर हो गई। मिशेल स्टार्क और मैक्सवेल ने हेजलवुड का अच्छा साथ निभाते हुए क्रमश: 40 और 43 रन देकर दो-दो विकेट चटकाए। मिशेल जानसन और जेम्स फाकनर ने एक-एक विकेट हासिल किया।ऑस्ट्रेलिया की भी शुरुआत अच्छी नहीं रही। सलामी बल्लेबाज आरोन फिंच (02) पारी के तीसरे ओवर में ही सोहेल खान की गेंद पर पगबाधा आउट हुए। उन्होंने रैफरल भी लिया लेकिन तीसरे अंपायर ने भी मैदानी अंपायर के फैसले को सही करार दिया। दूसरे सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर ने कुछ आकर्षक शाट लगाए लेकिन वह भी 23 गेंद में तीन चौकों की मदद से 24 रन की पारी खेलने के बाद वहाब रियाज (54 रन पर दो विकेट) का शिकार बने।

स्टार्क और मैक्सवेल ने क्रमश: 40 और 43 रन देकर दो-दो विकेट चटकाए

द्य

वाटसन ने स्मिथ के साथ चौथे विकेट के लिए 89 व मैक्सवेल (नाबाद 44) के साथ पांचवें विकेट के लिए की 68 रन की अटूट साझेदारी

पाकिस्तान: अहमद शहजाद का क्लार्क बो हेजलवुड 05, सरफराज अहमद का वाटसन बो स्टार्क 10, हैरिस सोहेल का हैडिन बो जानसन 41, मिस्बाह उल हक का फिंच बो मैक्सवेल 34, उमर अकमल का फिंच बो मैक्सवेल 20, शोएब मकसूद का जानसन बो हेजलवुड 29, शाहिद अफरीदी का फिंच बो हेजलवुड 23, वहाब रियाज का हैडिन बो स्टार्क 16, अहसान आदिल का स्टार्क बो फाकनर 15, सोहेल खान का हैडिन बो हेजलवुड 04, राहत अली नाबाद 06, अतिरिक्त: 10, कुल :49.5 ओवर में सभी विकेट खोकर 213 रन, विकेट पतन:1-20, 2-24, 3-97, 4-112, 5-124, 6-158, 7-188, 8-188, 9-195, गेंदबाजी: स्टार्क 10-1-40-2, हेजलवुड 10-1-35-4, जानसन 10-0-42-1, मैक्सवेल 7-0-43-2, वाटसन 5-0-17-0, फाकनर 7.5-0-31-1ऑस्ट्रेलिया: डेविड वार्नर का राहत बो वहाब 24, आरोन फिंच पगबाधा बो सोहेल 02, स्टीवन स्मिथ पगबाधा बो आदिल 65, माइकल क्लार्क का मकसूद बो वहाब 08, शेन वाटसन नाबाद 64, ग्लेन मैक्सवेल नाबाद 44, अतिरिक्त: 09, कुल: 33.5 ओवर में चार विकेट पर 216 रन, विकेट पतन:1-15, 2-49, 3-59, 4-148, गेंदबाजी: सोहेल 7.5-0-57-1, आदिल 5-0-31-1, राहत 6-0-37-0, वहाब 9-0-54-2, अफरीदी 4-0-30-0, हारिस 2-0-7-0

0 115

रोहित शर्मा के शानदार शतक के बाद उमेश यादव की अगुवाई में गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर भारत ने बांग्लादेश को 109 रन से हराकर विश्व कप सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया जहां उसका सामना पाकिस्तान या ऑस्ट्रेलिया से होगा। भारत ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 302 रन बनाए। जवाब में बांग्लादेशी टीम 2007 का करिश्मा नहीं दोहरा सकी जब उसने राहुल द्रविड़ की अगुवाई वाली भारतीय टीम को विश्व कप से बाहर किया था। उसकी पूरी टीम 45 ओवर में 193 रन पर आउट हो गई। भारत के लिए उमेश यादव ने नौ ओवर में 31 रन देकर चार विकेट लिए जबकि मोहम्मद शमी और रविंदर जडेजा को दो-दो विकेट मिले। भारत की इस विश्व कप में यह लगातार सातवीं और ओवरआल लगातार 11वीं जीत है। गेंदबाजों ने अब तक प्रत्येक मैच में विपक्षी टीम के सभी खिलाड़ियों को आउट किया। वनडे में यह कारनामा करने वाली भारत पहली टीम है। भारत की जीत के सूत्रधार मैन आफ द मैच रोहित रहे जिन्होंने 126 गेंद में 137 रन बनाए और चौथे विकेट के लिए सिर्फ 15.5 ओवर में सुरेश रैना के साथ 122 रन की साझेदारी की। रैना ने 65 रन की पारी खेली। जीत के साथ ही महेंद्र सिंह धोनी ने कप्तान के रूप में एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में जीत का शतक भी पूरा किया। यह कारनामा करने वाले वह दुनिया के तीसरे कप्तान हैं। भारत ने धोनी की अगुवाई में अब तक 177 मैच खेले हैं जिसमें से 100 मैचों में उसे जीत जबकि 62 मैचों में हार मिली है। चार मैच ड्रा रहे और 11 मैचों का परिणाम नहीं निकला है।

0 113

महेला जयवर्धने और कुमार संगकारा के शानदार वनडे करियर का अंत भले ही परीकथा जैसा नहीं हुआ हो लेकिन इन दोनों अनुभवी खिलाड़ियों ने निराशा के बावजूद अपनी इस लंबी यात्रा को हंसते हुए याद किया।इन दोनों ने पहले ही विश्व कप के बाद वनडे क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी थी और यहां क्वार्टर फाइनल में श्रीलंका की दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नौ विकेट की शिकस्त के साथ इन दोनों के करियर का अंत हुआ। आज के मैच से पहले रिकार्ड लगातार चार वनडे शतक जड़ने वाले संगकारा ने 45 रन की पारी खेली लेकिन इसके बावजूद टीम 37.2 ओवर में 133 रन पर ढेर हो गई। किसी विश्व कप में 500 से अधिक रन बनाने वाले वह छठे बल्लेबाज हैं। संगकारा ने मैच के बाद कहा कि जयवर्धने काफी निराश होगा लेकिन यह खेल का हिस्सा है, अंत परीकथा जैसा नहंी होता। आप विश्व कप जीतना चाहते हो, शीर्ष पर रहते हुए अंत करना चाहते हो लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो नहीं होता। इसका मतलब यह नहीं कि आप निराश होकर जाओ।

संगकारा ने श्रीलंका के लिए सर्वाधिक 45 रन बनाए। संगकारा टेस्ट क्रिकेट खेलते रहेंगे। संगकारा ने 404 वनडे मैचों में 14234 रन बनाए। उन्हांेने मौजूदा विश्व कप में सात मैचों में 541 रन बटोरे और फिलहाल वह टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं।

पहले ही टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह चुके महेला जयवर्धने ने इसके साथ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का अंत किया जो 1997 में शुरू हुआ था। उन्होंने 448 वनडे में 12650 रन जबकि 149 टेस्ट में 11814 रन बनाए।

Free Arcade Games by Critic.net