मुद्रास्फीति के आंकड़े, वैश्विक संकेतक देेंगे बाजार को दिशा

मुद्रास्फीति के आंकड़े, वैश्विक संकेतक देेंगे बाजार को दिशा

0 675

फरवरी के थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े, वैश्विक संकेतक तथा संसद का चालू सत्र इस सप्ताह शेयर बाजार की दिशा निर्धारित करेगा। शेयर बाजार विशेषज्ञांे ने यह बात कही है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा विदेशी निवेशकों के निवेश का रुख, डॉलर के मुकाबले रुपए का उतार चढ़ाव और अमेरिका द्वारा ब्याज दरांे में बढ़ोतरी को लेकर चर्चा भी बाजार के लिए महत्वपूर्ण कारक होंगे। रेलिगेयर सिक्योरिटीज लिमिटेड के खुदरा वितरण विभाग के अध्यक्ष जयंत मांगलिक ने कहा कि इस सप्ताह कारोबारी कंपनियों के अग्रिम कर आंकड़े पर ध्यान देंगे जो मार्च 2015 को समाप्त होने वाली चौथी तिमाही के नतीजों के बारे में संकेत प्रदान करेंगे। संसद के चालू सत्र के घटनाक्रम पर भी कारोबारियों की करीबी नजर होगी। व्यापक आर्थिक मोर्चे पर थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकडों को सोमवार को जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि वैश्विक घटनाक्रमांे में फेडरल ओपन मार्केट कमेटी (एफओएमसी) की दो दिन की बैठक 17 और 18 मार्च, 2015 को होगी। निवेशकों को फेडरल रिजर्व की प्रमुख जैनेट एलेन की इस बैठक की प्रतीक्षा है जिसमें मौद्रिक नीति की भविष्य की दिशा के बारे में कोई संकेत प्राप्त हो सकता है। बोनान्जा पोर्टफोलियो के सहायक कोष प्रबंधक ने कहा कि आम बजट के बाद बाजार की नजर सबसे ज्यादा फेडरल रिजर्व की ओपन मार्केट कमेटी की बैठक पर है। यह बैठक इसी सप्ताह होनी है। कारोबारियों को इस बैठक में ब्याज दरें बढ़ने की आशंका है क्योंकि अमेरिका में रोजगार के आंकड़े उम्मीद से बेहतर रहे हैं और आर्थिक स्थिति में सुधार आ रहा है। ऐसे में इस सप्ताह नरमी रह सकती है। बीते सप्ताह बंबई शेयर का सेंसेक्स 945.65 अंक अथवा 3.21 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्शाता बंद हुआ। जिन अन्य घटनाक्रमांे पर निवेशकांे की निगाह होगी अमेरिका के फरवरी माह के औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े 16 मार्च को आने हैं। बैंक आफ जापान की दो दिन की मौद्रिक समीक्षा बैठक 17 और 18 मार्च को होगी।