बर्बादी की बारिश आम जन जीवन बेहाल, फसलों का नुकसान, किसान हलकान

बर्बादी की बारिश आम जन जीवन बेहाल, फसलों का नुकसान, किसान हलकान

उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में रविवार को हुई बारिश तथा ओले गिरने से किसानों की परेशानियां बढ़ गईं। राजधानी लखनऊ और उसके आसपास के जिलों में चमक और गरज के साथ तेज बारिश हुई, जबकि शाहजहांपुर, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, सीतापुर और कुछ अन्य जिलों में ओले गिरने की सूचना है। बारिश और ओलों से फसलों को काफी नुकसान हुआ है। गेहूं, सरसों और दलहनी फसलें बर्बाद होने की कगार पर हैं। रविवार को लखनऊ का अधिकतम तापमान 24.2 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। यह सामान्य 7 डिग्री कम रहा। वहीं न्यूनतम तापमान 15.7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। एक सप्ताह पहले फसलों के लिए तबाही बनी बेमौसम बारिश ने शनिवार रात फिर उत्तर प्रदेश में दस्तक दी। रविवार को दिनभर रह-रहकर वर्षा होती रही। रात में तेज बारिश हुई। जानकारी के अनुसार फसल की बर्बादी देख चार किसानों की सदमे से मौत हो गई जबकि एक ने फांसी लगाने की कोशिश की। आकाशीय बिजली की चपेट में आकर तीन लोगों की मौत हो गई जबकि दो झुलस गए। बुंदेलखंड, कानपुर, उन्नाव और फतेहपुर समेत कई जिलों में बारिश के साथ ही ओले गिरे जिससे फसलों को व्यापक क्षति पहुंची है। इस बीच मौसम विज्ञानियों का कहना है कि पश्चिमी विक्षोभ का असर सोमवार को भी रहेगा। धूप के बीच बंूदाबांदी की संभावना है। अपनी फसलें बर्बाद होते देख आगरा के खंदौली के उस्मानपुर गांव में किसान राजेंद्र धाकरे और अछनेरा के बमरौद गांव में किसान शंकर सिंह की मौत हो गई। फीरोजाबाद के नैपई गांव में किसान रहीस पाल की हार्टअटैक से मौत हो गई। फर्रुखाबाद में गांव नगला घुरुआ निवासी रामकिशोर यादव आलू के खेत में मृत मिले। शनिवार रात वह खेत में आलू के ढेर पर पॉलीथिन डालने गए थे। परिजनों के मुताबिक आलू खराब होने के सदमे के कारण उनकी मौत हुई है। .महोबा में एक किसान ने बर्बाद फसल देख घर आकर फांसी लगाने की कोशिश की लेकिन समय रहते परिजनों ने बचा लिया और अस्पताल में दाखिल कराया। आगरा में आकाशीय बिजली गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई जबकि एक व्यक्ति झुलस गया। मथुरा में बारिश से रंग मंदिर में 175 साल पुरानी परंपरा टूट गई।