फिल्म रिव्यु -कपिल शर्मा की “किस किसको प्यार करू “

फिल्म रिव्यु -कपिल शर्मा की “किस किसको प्यार करू “

फिल्म अपने पहले ही सीन से कॉमेडी के ट्रैक को कस कर पड़क ले तो वह कपिल शर्मा की फिल्म कहलाती हैं। इस फिल्म के शुरु होने के कुछ पलों बाद ये अहसास आपको भी हो। मौजूदा दौर में टेलिविजन की दुनिया के सुपरस्टार कॉमेडियन कपिल शर्मा की खासियत ही यही है कि वो किसी सुपरफास्ट लग्जरी कार की तरह कुछ सेकेंड्स में ही 0 से 100 की स्पीड पकड़ लेते हैं। इस फिल्म के बारे में कुछ और बताने से पहले जरा एक नजर डाल लें इसकी कहानी पर जो बहुत सारे उतार-चढ़ाव और घुमाव भरी है।
कहानी : तो शरुवात यहाँ से होती है हालात हर बार ऐसे बने कि कुमार शिव राम किशन (कपिल शर्मा) को एक दो नहीं, बल्कि तीन-तीन शादियां करनी पड़ती है । बेचारे शिव राम किशन की तीनों बीवियां जूही (मंजरी फडनीस), सिमरन (सिमरन कौर मुंडी) अंजली ( साईं लोंकर) एक ही बिल्डिंग के अलग-अलग फ्लोर पर रहती हैं। शर्मा जी की इन तीनों बीवियों को कानो कान खबर नहीं है कि शिव, राम और किशन तीन अलग आदमी नहीं, बल्कि एक ही आदमी के तीन नाम हैं। दूसरी ओर शर्मा जी की एक गर्लफ्रेंड दीपिका (एली अवराम) भी है। इसी ट्रैक पर धीरे-धीरे आगे खिसकती कहानी के कई मोड़ पर अलग-अलग टिवस्ट आते हैं। तीनों बीवियों के साथ वक्त गुजारने के मकसद से शिव हर बार अलग-अलग बहाने मारता है। एसआरके की मुसीबत उस वक्त बढ़ती है, जब शिव की प्रेमिका दीपिका (एली अवराम) एकबार फिर से उसकी लाइफ में लौटती है। इस बार शर्मा जी अपने पहले प्यार को भी खोना नहीं चाहते और दीपिका से भी जल्दी शादी करने का वादा कर बैठते हैं। दूसरी ओर शिव के माता-पिता (शरत सक्सेना और सुप्रिया पाठक) भी नहीं जानते कि उनके बेटे ने क्या गुल खिला रखे है।

ऐक्टिंग : अगर बिग स्क्रीन पर पहली बार ऐक्टिंग के मापदंड पर रखकर कपिल शर्मा को परखा जाए तो उनकी तारीफ करनी होगी कि उन्होंने कमजोर और लाचार स्क्रिप्ट को अपने दम पर इंटरवल तक खूब संभाला है। हां, कपिल कभी-कभी ७० एमएम के पर्दे पर कॉमिडी नाईट्स जैसा माहौल बना देते हैं। सिमरन कौर मुंडी, साईं लोकर, मंजरी फडनीस, अरबाज खान हर किसी ने अपने किरदार के हिसाब से ठीकठाक काम किया है। यह बात अलग है कि कपिल को छोड़ दूसरे कलाकारों को ज्यादा फुटेज नहीं मिल पाई। वरुण शर्मा ने कमाल का अभिनय किया है।इस वीकेंड आप कपिल के साथ टाइमपास कर सकते हैं।

निर्देशन : अब्बास मस्तान ने अपने ट्रैक से अलग हटकर इस बार ऐसी स्क्रिप्ट पर काम किया जो नब्बे के दशक की याद दिलाती है। इंटरवल से पहले तो फिल्म एक ट्रैक पर ठीकठाक रफ्तार से आगे चलती है, लेकिन बाद में रोचकता कम होने लगती है। अगर अब्बास मस्तान कपिल को उनके टीवी शो से बाहर निकालकर अलग ट्रैक पर फिल्म बनाते तो यकीनन उनकी यह फिल्म कपिल के कॉमिडी शो से बेहतर बनती । कुल मिलकर एक अच्छी कोशिश की गई है

रेटिंग: २ स्टार
कलाकार: कपिल शर्मा, मंजरी फडणिस, सिमरन कौर मुंडी, साईं लोकुर, एली एवराम, अरबाज खान, वरुण शर्मा, सुप्रिया पाठक
निर्देशन: अब्बास-मस्तान