धमाकों से दहले चर्च दो आत्मघाती हमलावरों ने किया विस्फोट, 15 की मौत, 80 घायल

धमाकों से दहले चर्च दो आत्मघाती हमलावरों ने किया विस्फोट, 15 की मौत, 80 घायल

0 746

लाहौर में पाकिस्तान की सबसे बड़ी ईसाई कालोनी में दो गिरिजाघरों में रविवार की प्रार्थना के दौरान दो आत्मघाती हमलावरों द्वारा किए गए विस्फोट में दो पुलिसकर्मी समेत कम से कम 15 लोग मारे गए व 80 से ज्यादा घायल हो गए। हमलावरों ने पंजाब प्रांत की राजधानी लाहौर के योहानाबाद इलाके में स्थित रोमन कैथोलिक चर्च व क्राइस्ट चर्च के दरवाजों पर विस्फोट कर दिया जिसके बाद वहां भगदड़ मच गई। हमलों के बाद भीड़ ने दो संदिग्ध आतंकियों को पीट-पीटकर उन्हें जला दिया जिससे उनकी मौत हो गई। स्थानीय ईसाई नेता असलम परवेज सहोत्रा ने कहा कि प्रार्थना सभा चल रही थी तभी हमलावर वहां पहुंचे व चर्चों में घुसने का प्रयास किया। जब सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें वहां घुसने से रोका तो उन्होंने वहीं विस्फोट कर दिया। घटना के समय चर्चों में बड़ी संख्या में ईसाई समुदाय के लोग थे। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान से अलग हुए जमात-उलअहरार ने हमले की जिम्मेदारी ली है। इसी संगठन ने पिछले साल सितंबर में वाघा सीमा पर हुए आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी ली थी जिसमें 60 लोग मारे गए थे। स्वास्थ्य महानिदेशक जाहिद परवेज ने लाहौर जनरल अस्पताल के बाहर कहा कि कुछ घायलों की हालत गंभीर है इसलिए मृतक संख्या बढ़ सकती है। पंजाब सरकार के प्रवक्ता जईम कादरी ने कहा कि दोनों चर्चों के बाहर पांच पुलिसकर्मी तैनात थे। इनमें से दो की जान चली गई वहीं तीन अन्य गंभीर हालत में हैं। उन दोनों की शहादत से बड़ी संख्या में लोगों की जान बच गई। लोगों ने दो संदिग्धों को पकड़ा जो आत्मघाती हमलावरों के साथी लग रहे थे। आक्रोशित भीड़ ने दोनों आतंकियों की पिटाई के बाद उन्हें जला दिया।

.संदिग्धों ने माना कि वे आत्मघाती हमलावर के साथी थे व अभियान पर नजर रखने के लिए आए थे। लाहौर के उप महानिरीक्षक हैदर अशरफ ने कहा कि हमने उग्र भीड़ को नहीं रोका क्योंकि पुलिस और भीड़ के बीच संघर्ष हो सकता था। योहानाबाद में कम से कम दस लाख लोग रहते हैं व यहां 150 से अधिक चर्च हैं। यहां हालात तनावपूर्ण हैं। पाक में अल्पसंख्यक समुदायों को लंबे समय से चरमपंथियों व आतंकी समूहों द्वारा निशाना बनाया जाता रहा है। 2013 में पेशावर में ऑल सेंट्स चर्च पर आत्मघाती हमलों में 80 लोग मारे गए थे। घटना के बाद ईसाई सड़कों पर उतरे और शहर में अनेक रास्तों पर यातायात अवरुद्ध कर दिया। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी हमले की निंदा की व कायराना कृत्य करार दिया। लाहौर पुलिस ने दो अलग-अलग मामले दर्ज कर लिए हैं। एक दोनों चर्चों पर हमले के खिलाफ व दूसरा दोनों संदिग्धों को जान से मारने में शामिल लोगों के खिलाफ है। आतंकी आत्मघाती जैकेट पहने थे और पांच-पांच किग्रा विस्फोटक लेकर आए थे। पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ ने मृतक परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की व घायलों को 75-75 हजार रुपए देने की घोषणा की।