कांग्रेस ने मनमोहन के समर्थन में मार्च निकाला

कांग्रेस ने मनमोहन के समर्थन में मार्च निकाला

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कोल ब्लॉक केस में कोर्ट द्वारा बतौर आरोपी सम्मन जारी किए जाने पर उनके समर्थन में आज कांग्रेस ने एकजुटता दिखाते हुए मार्च निकाला। यह मार्च कांग्रेस दफ्तर से मनमोहन सिंह के आवास तक निकाला गया। पार्टी की मुखिया सोनिया गांधी ने इसका नेतृत्व किया, जिसमें दल के सभी शीर्ष नेता शामिल हुए। पूर्व पीएम ने भी अपने घर से बाहर आकर सभी नेताओं से मुलाकात कर बातचीत की। कांग्रेस के मार्च पर डॉ. सिह ने कहा कि सोनिया गांधी और अन्य नेता मेरे घर आए, इससे मैं काफी खुश हूं। हम इस मामले में पूरी ताकत के साथ कानूनी लड़ाई लड़ेंगे।

इससे पूर्व सोनिया गांधी ने कहा कि मनमोहन सिंह की ईमानदारी पर कोई सवाल ही नहीं उठता। वे दुनिया भर में बेहद सम्मानित व्यक्ति हैं। कांग्रेस मजबूती से उनके साथ है। उनके समर्थन में पार्टी लड़ाई लड़ेगी। पार्टी ने तय किया है कि इस मसले पर पार्टी कानूनी रूप से लड़ाई लड़ेगी।

अजय माकन ने कहा है कि पूर्व पीएम का नाम इस केस में घसीटा जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। कांग्रेस पूरी तरह उनके साथ खड़ी है। वहीं, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा, सीबीआई ने दो बार कहा है कि मनमोहन सिंह के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई करने के लिए कोई आधार और आरोप नहीं है। पूर्व केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली ने भी कहा कि डॉ. सिंह को उनकी अखंडता और चरित्र के लिए जाना जाता है। कांग्रेस इस मामले में कानूनी कार्रवाई करेगी। साथ ही सीनियर कांग्रेस लीडर शशि थरूर ने कहा कि हम यहां डॉ. सिंह के समर्थन और सम्मान के लिए आए हैं। हम उनके साथ हर पल खड़े हैं।

दरअसल, सोनिया गांधी ने इस मुद्दे पर आज पार्टी की आपात वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई थी। कांग्रेस दफ्तर में सुबह साढ़े नौ बजे बैठक शुरू हुई, जिसमें सोनिया गांधी कांग्रेस कार्य समिति के सदस्यों और दोनों सदनों के सांसदों से मिलीं। पार्टी के सभी बड़े नेता कांग्रेस इसमें पहुंचे। बैठक में वर्किंग कमेटी के वरिष्ठ रणनीतिकारों ने मनमोहन के खिलाफ केस और अहम मसलों पर रणनीति तैयार करते हुए सिंह के समर्थन में पार्टी दफ्तर से उनके आवास तक मार्च निकालने का निर्णय लिया। बैठक में पार्टी के सीनियर लीडर और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शामिल नहीं हुए। कल ही सीबीआई स्पेशल कोर्ट ने कोल ब्लॉक आवंटन केस में उन्हें बतौर आरोपी सम्मन जारी किया था।